भिलाई । छत्‍तीसगढ़ के भिलाई के टाउनशिप के सेक्टर-8 के एक घर में शुक्रवार की देर रात अचानक आग लग गई। घटना के समय परिवार के सभी सदस्य सोए हुए थे। लेकिन, आग लगने के बाद रात करीब तीन बजे घर में सो रही मां की नींद खुल गई। वो दौड़कर दूसरे कमरे में गई। जहां उसके दोनों बेटे सो रहे थे। उसने अपने दोनों बेटों को उठाने की कोशिश की। लेकिन, कमरे में धुआं भर जाने के कारण वे दोनों बेहोश हो गए थे। उसने शोर मचाया और पड़ोसियों को मदद के लिए बुलाया। पड़ोसियों ने वहां पहुंचकर दोनों बेटों को बाहर निकाला और एंबुलेंस बुलाकर उन्हें सेक्टर-9 अस्पताल भेजा। साथ ही उन्होंने पहले खुद आग बुझाने की कोशिश की। लेकिन, सफल न हो पाने पर उन्होंने फायर ब्रिगेड को सूचना दी। जिस पर नगर सेना के दमकल कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया।
जानकारी के मुताबिक उक्त घटना सेक्टर-8 सड़क 46 क्वाटर नंबर 3b निवासी के अनीता के घर की है। के अनीता अपने दोनों बेटों निखिल (21) और अक्षत (12) के साथ घर पर सोई हुई थी। के अनीता की रात में तीन बजे नींद खुली तो पूरे घर में धुआं भरा मिला। यह देखकर उसके होश उड़ गए। वो फौरन दोड़कर नीचे के कमरे में सो रहे अपने दोनों बेटों के पास गई। ताकि उन दोनों को घर से बाहर निकालकर उन्हें बचा सके। लेकिन, उनके कमरे में भी धुआं भर गया था। इस कारण से वे लोग बेहोश हो गए थे। उसने चीख पुकार मचाई तो पड़ोसियों की नींद खुली और वे बाहर निकले।
पड़ोसियों ने निखिल और अक्षत को कमरे से बाहर निकाला और एंबुलेंस बुलाकर सेक्टर-9 अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद उन्होंने पानी डालकर खुद आग बुझाने की कोशिश की। लेकिन, आग इतनी भयंकर थी कि वे आग बुझाने में सफल नहीं हो सके तो उन्होंने फायर ब्रिगेड को बुलाया। रात में ही नगर सेना की फायर ब्रिगेड ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया। घटना में कमरे में रखे कंप्यूटर और आलमारी जल गए। आलमारी में कपड़ों के अलावा के अनीता के दोनों बेटों के सर्टिफिकेट भी थे। घटना में वे भी जल गए।